आपदा बड़ी है, मुसीबत और परेशानी है, पर आँख में आंसू मत आने देना, सरकार पूरी तरह से आपके साथ है : मुख्यमंत्री श्री चौहान

भोपाल । मुख्यमंत्रीशिवराज सिंह चौहान ने कहा है आपदा बड़ी है पर अपनी आँखों में आँसू मत लाना। आप सबको इस मुसीबत से पार लेकर जाएँगे। अति वृष्टि और बाढ़ से हुए सभी प्रकार के नुकसान की भरपाई के साथ ही जिन लोगों के घर टूट गए हैं, गिर गए हैं या बह गए हैं, उनके लिए प्रधानमंत्री आवास योजना की तर्ज पर नए घर बनवाए जाएँगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान गुरुवार को सड़क मार्ग से ग्वालियर जिले के बाढ़ प्रभावित गाँवों में लोगों का दुःख-दर्द बाँटने पहुँचे थे। यहाँ उन्होंने बाढ़ प्रभावितों से रू-ब-रू होकर उनकी समस्याएँ सुनी और हरसंभव मदद का भरोसा दिलाया।
प्रभावित गाँव के साथ राहत शिविरों में भी पहुँचे
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने लगभग साढ़े छः घण्टे तक सड़क मार्ग से दौरा कर लगभग एक दर्जन बाढ़ प्रभावित गाँवों के लोगों से रू-ब-रू हुए। इनमें डबरा विकास खण्ड के ग्राम चाँदपुर, रायपुर और हिम्मतगढ़ तथा विकासखण्ड भितरवार के ग्राम सिला, पलायछा, गधोटा, सहवई, लोहड़ी, धोबनी बेलगढ़ा, जखवार, सहारन, आदमपुर, नजरपुर, भितरवार नगर पंचायत शामिल हैं। मुख्यमंत्री ने ग्राम चाँदपुर पहुँचकर बाढ़ से हुए नुकसान की वस्तुस्थिति भी जानी। साथ ही लखेश्वरी माता मंदिर परिसर में बाढ़ प्रभावित गाँवों के लिए बनाए गए राहत शिविर में भी पहुँचे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने डबरा-झाँसी मार्ग पर सिंध नदी के समीप बाढ़ से क्षतिग्रस्त हुई चाँदपुर गौशाला के जीर्णोद्धार और लखेश्वरी माता मंदिर परिसर में कम्युनिटी हॉल-सह-मैरिज हॉल बनवाने की घोषणा भी इस दौरान की।
जिनके आवास टूटे हैं, नए बनवाएंगे
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जिन परिवारों के घर बाढ़ से क्षतिग्रस्त हुए हैं प्रदेश सरकार उनके लिए नया घर बनवाने के लिए एक लाख बीस हज़ार रुपए की आर्थिक मदद देगी। इसके लिए जल्द सर्वे कराया जाएगा।
हर प्रकार के नुकसान की भरपाई करेंगे
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश सरकार हर प्रकार के नुकसान की भरपाई करेगी। जिन लोगों के घरों का सामान, बर्तन-भाडे, कपड़े इत्यादि नष्ट हुए हैं, उन सभी का आंकलन कर राजस्व पुस्तक परिपत्र के प्रावधानों के तहत आर्थिक राहत प्रदान की जाएगी। श्री चौहान ने कहा कि जिन किसानों की फसलें नष्ट हुई हैं, उनका जल्द से जल्द सर्वेक्षण कराकर राहत राशि वितरित की जाएगी। जिनका कुआं और नलकूप नष्ट हुआ है उन्हें 25 हजार रूपये, गाय, भैंस, बैल इत्यादि मवेशी की मृत्यु पर 30 हजार, साथ ही छोटे जानवर की मृत्यु पर 10 हजार रूपए की आर्थिक मदद दी जाएगी। इसके अलावा यदि बकरा, बकरी और मुर्गा-मुर्गी की मृत्यु हुई होगी तो उनके मालिकों को भी सरकार आर्थिक राहत देगी।
प्रभावित परिवार को आधा क्विंटल राशन तुरंत
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि तात्कालिक रूप से भोजन की व्यवस्था के लिये हर बाढ़ प्रभावित परिवार को आधा क्विंटल खाद्यान्न सरकार मुहैया करायेगी। साथ ही जो बर्तन भाडे, कपड़े लत्ते और अनाज का नुकसान हुआ है, उसके नुकसान का आंकलन करके प्रभावितों को राहत राशि दी जाएगी।
सर्वे में कोई छूटे नहीं
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कलेक्टर को निर्देश दिए कि सर्वेक्षण का काम पूरी पारदर्शिता के साथ जल्द से जल्द पूर्ण कराएँ। साथ ही सर्वेक्षण कार्य का पंचनामा भी तैयार कराया जाए। सर्वेक्षण में कोई छूटे नहीं। मुख्यमंत्री ने किसानों को भरोसा दिलाया कि आरबीसी 6-4 के तहत फसल नुकसान की भरपाई करने के साथ फसल बीमा की राशि भी दिलाई जाएगी। उन्होंने कहा कि अति वर्षा और बाढ़ से क्षतिगस्त हुई बिजली की लाइनें अभियान बतौर दुरूस्त कराकर जल्द ही बिजली की सप्लाई सुचारू की जाएगी।
कहीं ट्रेक्टर की ट्राली पर बैठकर तो कहीं पर ऊँचे स्थान पर खड़े होकर सुनी लोगों की समस्याएँ
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने चाँदपुर और गधौटा में ट्रेक्टर की ट्रॉली पर खड़े होकर आत्मीयता के साथ बाढ़ प्रभावित लोगों की समस्याएँ और कठिनाईयाँ सुनीं। साथ ही सबको भरपूर मदद का भरोसा दिलाते हुए कहा कि आप सबकी परेशानियों को दूर करने के लिये ही हम सड़क मार्ग से आपके पास आए हैं। उन्होंने कहा अति वृष्टि और बाढ़ से प्रभावित हुई आप सबकी जिंदगी फिर से पटरी पर आ सके, इसके लिए सरकार हरसंभव मदद देने की पुरजोर कोशिश करेगी।
इस अवसर पर जिले के प्रभारी एवं जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट, पूर्व मंत्री श्रीमती इमरती देवी, पूर्व विधायक मदन कुशवाह, भाजपा जिला अध्यक्ष ग्रामीण कौशल शर्मा व शहर कमल माखीजानी तथा साडा के पूर्व अध्यक्ष राकेश सिंह जादौन सहित अन्य क्षेत्रीय जनप्रतिनिधि उपस्थित थे। साथ ही पुलिस महानिरीक्षक अविनाश शर्मा, कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह, पुलिस अधीक्षक अमित सांघी, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी किशोर कान्याल तथा अपर कलेक्टर आशीष तिवारी व रिंकेश वैश्य सहित अन्य संबंधित अधिकारी मौजूद रहे।

Check Also

स्कूल व कालेज खुले, पर बसें नहीं दौड़ी, -बस आपरेटरों की आस टूटी

भोपाल । कोविड-19 का संक्रमण घटने के बाद शहर में स्कूल व कालेज खुल गए …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *